Sunday, January 27, 2013

A Perfect Lunch Menu for a perfect Sunday

I love Sunday specially Sunday morning..Right from the childhood I use to wait for Sunday for the obvious reason it use to be a holiday :D. I think Sunday has a special energy which no other day has.

Deciding what to cook for lunch on Sunday is quite irritating for me, I usually get confuse what to cook which is tasty yet less time consuming so that I can spend quality time with my husband and son.

Today I made a yummy lunch which my toddler son and husband both have liked, so I am sharing my menu and recipe so that even you can enjoy these delicious recipes with your family and spend quality time with your family..

The entire cooking has took almost an hour time only and at the end of the cooking I was able to serve:

Steam rice
Moong dal
Brinjal fry
Potato curry without onion
Tikki chaat
Ras malai and 
Butter milk.

Here goes my recipes and the ingredients..
I did multitasking ( woman's are good at that :D) 

I usually start cooking with sweet dish so that I can refrigerate it for sometime before serving 

Ras Malai :

Paneer for Rasmalai - Ingredients
Milk - 1 litre (preferably full fat cream milk)
Lemon Juice - 3 to 4 tbsp
All purpose flour - 1 tbsp
Cardamom powder- 1 tbsp
Sugar : 1/4 cup


Boil milk for 5mins, Once the boil comes then reduce flame, add lemon juice and continue string until the milk curdles.

Place a cheesecloth(make sure it is long enough to get tied up) over a container and strain the paneer. now wash the paneer under running water for at lest 2-3 times to avoid the lemon flavor. Bring the edges of the cloth to the center, tie and hang it to a handle or sink tap. Allow the water to drip by itself, do not disturb the setup for at least half an hour to 45.

Now the paneer is ready.Take it on a plate and knead it very well to remove any chunks. Now add 1 tbsp of all purpose flour in it and knead it well. Now make small balls or any shape or size of your choice. 

In a pressure cooker, heat sugar and water. When the sugar is dissolved and syrup comes to boil, slowly add the balls.Now, bring down the heat to low and close the lid. Let it cook on low flame for 11 mins usually 2-3 whistles are fine. They are cooked when they have considerably increased in size.
Add the cardamom powder and take off the heat.

For Malai:
Milk : 3 cups
Bread :1 slice ( white bread)
Cornstarch : 1 tbsp
Sugar :1/4 cup sugar, adjust to taste
Cardamom power: 1/4 tbsp
Pista : 12 piece


Remove the crust from all sides of the bread and cut the bread in small pieces.
Blend bread pieces, cornstarch, and a 1/4 cup of milk, making smooth paste and set aside.
Boil remaining milk in a pan on low flame, keep Steering milk as needed to keep milk from burning on the bottom of the frying pan. After milk comes to boil, let the milk boil for 1 minute. After 1 min add the bread mixture to the milk in the pan and cook for another 2-3 minutes, add sugar and pistachios and cook for 1 more minutes.
Turn off the heat and add cardamom powder.
Cool the milk to room temperature and pour into a bowl.Now mix the small rasgulla in the milk and garnish it with pista.
Your yummy Rasmali is ready Refrigerate it for half an hour before serving.

Ras Malai

Steam Rice :

I have used philips rice cooker for cooking  rice.


Rice: 1.5 cup
Water : 3 cup water


soak the rice for 30 min before cooking. put the rice and water in rice cooker & rest the rice will take care.

Moong Dal
Moong Dal : 1/2 cup
1 cup Whey of paneer.( it taste really good)
Jeera : 1 tsbp
Ghee  : 3 tsbp
Onion : 1 tsbp
Garlic : 4-5
Turmeric powder : 1 tsbp
Red chilli : 1
Salt to taste


Wash dal properly and pressure cook it in 1.5 cup of whey salt and turmeric.
Add water, if necessary, to prevent drying out.
Cook it for 5-6 min. usually 2 whistles is enough.
Heat the ghee in a frying pan and add jeera.
Fry it for a minute on medium heat. add red chilli
Add onions now and fry them till they turn light brown.
Mix the prepared gravy into cooked dal.
Moong dal is ready.

Moong Dal
Brinjal fry:

Brinjal : 3 nos.
Cornflour: 2 tbsp
Coriander powder: 1 tbsp
Turmeric Powder: 1 tbsp
garlic : 2-3 nos.
Oil : 3 tbsp for frying
Salt to taste.
Chat masala powder : 1/4 tbsp

Wash Brinjal, make a slit and insert the garlic into it.
Make a batter of cornflour, salt, turmeric powder, coriander powder, add 2 tbsp water into it.
now dip Brinjal into the batter and fry it on high flame for 2 mins now cover it and cook it for 3 more mins.

Brinjal fry is ready sprinkle chaat masala powder on it.

Brinjal fry
Potato curry without onion :

Small potatoes : 5-6 nos. boil some more potato for tikki chat as well.
Tomato : 1
Oil : 2 tbsp
Cumin seed : 1 tbsp
Mustard seed : 1 tbsp
A large pinch of asafoetida powder
Turmeric powder : 1/2 tbsp
Coriander powder : 1 tbsp
Chilli powder to taste
dry methi leaves : 1 tbsp
Salt to taste
Red chilli for garnishing.
Garam Masala : 1/4 tbsp

Boil or microwave potatoes, Cool, peel and press them between your palm.
Heat oil in a pan fry potatos for 4-5 mins and keep it aside
now heat oil in a same pan, Add cumin seeds and asafoetida. When seeds splutter, Add tomatoes, all the spices (you can use curry powder instead of all these spices) and salt. add methi leaves. Fry until oil separates. Add potatoes and stir gently.
Add 1/2 cup of water(I like thick gravy, if want you can add some more water) and bring to boil.Now reduce flame and simmer it  for a few minutes.
Turn heat off and add garam masala.
Garnish it with red chilli and chopped onion

Tikki chaat

Potatoes: 3 small boiled
Chopped mixed vegetable (beans, cauliflower,carrot, pea) 1/4 cup
salt to taste
green chilli : 1
Breadcrumb : 1/4 cup
200 ml curds
mixed fruit 1/4 cup ( pomegranate, grapes,date)
3-4 tbsp tamarind chutney if available else you can use tomato sauce.
Dry sav or if that in not there you can used boiled sewai.

Chat masala, red chilli powder, jeera power for sprinkle.


Grate boiled potato, mix chopped mixed vegetable salt and green chilli. now add breadcrum and make a dough.
Now make a tikki roll it on breadcrumb and shallow fry it on tawa for 3-4 mins turn and cook the other side for 3-4 mins
now take a bowl place tikkis, add curd, tamrind chutney, mixed fruit and dry sev or boiled sewai, sprinkle chat masla, red chilli powder and jeera powder.

 tikki chat

Finally Butter milk, in my house no food is complete without butter milk, my son loves it so much that I can't impress him without butter milk ;)

2 cup plain curd
Salt to taste
Ginger small piece
Green chilli : 1/2 piece

Put all the ingredient in the grinder, add 700 ml water.Blend it for 2 sec..

Finally  my dinning table look like this :

We had a wonderful lunch and three of us have enjoyed it thoroughly..
None of the item took much time to cook yet they were so testy.

Hope you will enjoy it like we did.



Monday, January 21, 2013

How to prepare mixed vegetable soup

One of my friend asked me the recipe of Mixed vegetable soup. I am sharing my mixed vegetable soup recipe so that everyone can enjoy this easy and tasty recipe.
1 cup carrots sliced
1/4 cup french beans chopped
1/2 cup peas
1 1/2 cup tomato chopped
1 tsp garlic chopped
1 tsp ginger grated or chopped, if you like the garlic taste then chop it
2 tsp coriander leaves
2 tsp butter
3 glasses of water
salt and pepper to taste
For garnishing : cheese granted paneer grated

Method of making mixed vegetable soup:

 Melt butter, fry ginger and garlic paste for 2 mins,
Add chopped tomato, carrot, French beans, peas and water. Pressure cook for 5-6 minutes.
Add coriander leaves. Boil for 2-3 minutes. Garnish with grated paneer and cheese.

 Note : If you want thick soup, then add 2 tsp of corn flour mixed in 1/2 cup milk.

Tuesday, July 8, 2008

कुछ दूर हमारे साथ चलो हम दिल की कहानी कह देंग़े....

क़ुछ दूर हमारे साथ चलो हम दिल की कहानी कह देंग़े,
समझे ना जिसे तुम आंखो से वो बात ज़ुबानी कह देंग़े,

फूलो की तरह जब होठो पर इक शोक तबसुम बिखरेगा,
धीरे से तुम्हारे कानो मे इक बात पुरानी कह देंगे,

इज़्हार-ए-वफा तुम क्या समझो इक़रार-ए-वफा तुम क्या जानो,
हम ज़िक्र करेंगे गैरो का और अपनी कहानी कह देंग़े,

मौसम तो बढा ही ज़ालिम है तूफान उठता रहता है,
कुछ लोग मगर इस हलचल को बदमस्त जवानी कह देंग़े,

समझे ना जिसे तुम आंख से वो बात ज़ुबानी कह देंग़े,
कुछ दूर हमारे साथ चलो हम दिल की कहानी कह देंग़े....

Wednesday, October 24, 2007

जाने क्योँ तुम से मिलने कि, आशा कम विश्वाश बहुत है।

जाने क्योँ तुम से मिलने कि, आशा कम विश्वाश बहुत है
सशसा भूली याद तुम्हारी उर्र में आग लगा जाती है
बिरहा तताप भी मधुर मिलन के सोये मेघ जगा जाती है
मुझ को आग और पानी में रहने का अभाय्श बहुत है
जाने क्योँ तुम से मिलने कि, आशा कम विश्वाश बहुत है

धन्य धन्य मेरी लघुता को, जिसने तुम्हे महान बनाया
धन्य तुमहारी स्नेह क्रिप्नता, जिश्ने मुझे उद्दार बनाया
मेरी अंध भक्ति को केवल इतना मंद प्रकाश बहुत है
जाने क्योँ तुम से मिलने कि, आशा कम विश्वाश बहुत है

मैं में आँखें खोल देख ली है नादानी उन्माधो कि
मैं नी सुनी और समझी है कठिन कहानी अवसदो कि,
फिर भी जीवन के प्रिसतो में पढ़ने का एतिहाश बहुत है
जाने क्योँ तुम से मिलने कि, आशा कम विश्वाश बहुत है

ओह! जीवन के थके पखेरोऊ बढे चलो हिम्मत मत हरो,
पंखो में भविउस बंदी है मत अततेत कि ओहर निहारो ,
क्या चिंता धरती यदि छूटी उड़ने को आकाश बहुत है
जाने क्योँ तुम से मिलने कि, आशा कम विश्वाश बहुत है

Sunday, October 21, 2007

जीवन की आपाधापी में

जीवन की आपाधापी में कब वक़्त मिला
कुछ देर कहीं पर बैठ कभी यह सोच सकूँ
जो किया, कहा, माना उसमें क्या बुरा भला।

जिस दिन मेरी चेतना जगी मैंने देखा
मैं खड़ा हुआ हूँ इस दुनिया के मेले में,
हर एक यहाँ पर एक भुलाने में भूला
हर एक लगा है अपनी अपनी दे-ले में
कुछ देर रहा हक्का-बक्का, भौचक्का-सा,
आ गया कहाँ, क्या करूँ यहाँ, जाऊँ किस जा?
फिर एक तरफ से आया ही तो धक्का-सा
मैंने भी बहना शुरू किया उस रेले में,
क्या बाहर की ठेला-पेली ही कुछ कम थी,
जो भीतर भी भावों का ऊहापोह मचा,
जो किया, उसी को करने की मजबूरी थी,
जो कहा, वही मन के अंदर से उबल चला,
जीवन की आपाधापी में कब वक़्त मिला
कुछ देर कहीं पर बैठ कभी यह सोच सकूँ
जो किया, कहा, माना उसमें क्या बुरा भला।

मेला जितना भड़कीला रंग-रंगीला था,
मानस के अन्दर उतनी ही कमज़ोरी थी,
जितना ज़्यादा संचित करने की ख़्वाहिश थी,
उतनी ही छोटी अपने कर की झोरी थी,
जितनी ही बिरमे रहने की थी अभिलाषा,
उतना ही रेले तेज ढकेले जाते थे,
क्रय-विक्रय तो ठण्ढे दिल से हो सकता है,
यह तो भागा-भागी की छीना-छोरी थी;
अब मुझसे पूछा जाता है क्या बतलाऊँ
क्या मान अकिंचन बिखराता पथ पर आया,
वह कौन रतन अनमोल मिला ऐसा मुझको,
जिस पर अपना मन प्राण निछावर कर आया,
यह थी तकदीरी बात मुझे गुण दोष न दो
जिसको समझा था सोना, वह मिट्टी निकली,
जिसको समझा था आँसू, वह मोती निकला।
जीवन की आपाधापी में कब वक़्त मिला
कुछ देर कहीं पर बैठ कभी यह सोच सकूँ
जो किया, कहा, माना उसमें क्या बुरा भला।

मैं कितना ही भूलूँ, भटकूँ या भरमाऊँ,
है एक कहीं मंज़िल जो मुझे बुलाती है,
कितने ही मेरे पाँव पड़े ऊँचे-नीचे,
प्रतिपल वह मेरे पास चली ही आती है,
मुझ पर विधि का आभार बहुत-सी बातों का।
पर मैं कृतज्ञ उसका इस पर सबसे ज़्यादा -
नभ ओले बरसाए, धरती शोले उगले,
अनवरत समय की चक्की चलती जाती है,
मैं जहाँ खड़ा था कल उस थल पर आज नहीं,
कल इसी जगह पर पाना मुझको मुश्किल है,
ले मापदंड जिसको परिवर्तित कर देतीं
केवल छूकर ही देश-काल की सीमाएँ
जग दे मुझपर फैसला उसे जैसा भाए
लेकिन मैं तो बेरोक सफ़र में जीवन के
इस एक और पहलू से होकर निकल चला।
जीवन की आपाधापी में कब वक़्त मिला
कुछ देर कहीं पर बैठ कभी यह सोच सकूँ
जो किया, कहा, माना उसमें क्या बुरा भला।

हरीवंश राय बच्चन

Friday, June 29, 2007

हर तरफ़, हर तरह...

बुलबुलों में रहा पिंजरों की तरह,
रास्तों पर चला मंजिलों की तरह,
मैं नशे में भी होश ना खो सका
महफ़िलों को जिया मंदिरों की तरह,
सपने हकीकत सब बेकार थे
इस सजा को जिया शापितों की तरह,
शौक था एक ही बस बगावत का
फ़ौजियों में रहा बागियों की तरह,
नाम था या थी ये सब बदनामियाँ
खबरों में रहा हादसों की तरह,
ठहरे पानी सा ही यूं तो ठहराव था
नफ़रतों में चला पर गोलियों की तरह,
हरेक का यहाँ कोई खरीददार था
मैं फ़ेरियों में बिका फ़ुटकरों की तरह,
इश्क़ को क्यों इबादत कहते हैं लोग
खाइयों में गिरा आशिक़ों की तरह,
दूंद ली भीड़ में भी मैंने तनहाइयां
शादियों में रहा मातमों की तरह,
हार को चूमा हर बार बहुत प्यार से
हौसलों से मिला मुश्किलों की तरह,
दर्द की वजह बस एक इन्तज़ार था
हर घड़ी से मिला दुश्मनों की तरह,
हर मोड़ पर एक ऊंची दीवार थी
झांका दरारों से कनखियों की तरह,
दिल से मिटाया मेरा नाम बार बार
उनके गालों पर रहा सुर्खियों की तरह,
मैं गूंगा था
उन्हे शौक था शोर का
बस बिलखता रहा
जोकरों की तरह,
ये लिखना तो बस एक दोहराव था
बस उन्हीं को लिखा
हर तरफ़, हर तरह...

Saturday, May 26, 2007

क्या बतायें

क्या बतायें कि जां गई कैसे ?
फिर से दोहरायें वो घड़ी कैसे ?

किसने रस्ते में चाँद रखा था
मुझको ठोकर वहाँ लगी कैसे ?

वक्त पे पाँव कब रखा हमने
जिंदगी मुँह के बल गिरी कैसे ?

आँख तो भर गई थी पानी से
तेरी तसवीर जल गई कैसे ?

हम तो अब याद भी नहीं करते
आपको हिचकी लग गई कैसे ?